Saturday , August 13 2022

25 साल की साधना छोड़, जैन मुनि शादी कर बसाएंगे घर

दमोहः मध्य प्रदेश के दमोह स्थित बेलाजी जैन तीर्थ क्षेत्र में रहकर चातुर्मास व्रत कर रहे मुनिश्री शुद्धात्म सागर जैन ने 25 साल का संन्यास छोड़कर गृहस्थ जीवन अपनाने का ऐलान किया है. जैन मुनि की इस घोषणा के साथ ही विवाद भी शुरू हो गया है. शुद्धात्म सागर दो बार दीक्षा ले चुके हैं बीते 25 साल से बिना वस्त्र के हैं. लेकन अब उन्होंने अपनी महिला मित्र प्रज्ञा दीदी से विवाह करने का फैसला लिया है. जैन मुनी के इन फैसले से भक्त हैरत में हैं.

जैन मुनि ने जिले के पटेरा मार्ग स्थित बेलाजी जैन तीर्थ क्षेत्र प्रबंधन पर मारपीट और प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है. हालांकि जैन मुनि ने इस मामले में प्रबंधन के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई है. इसके बाद प्रज्ञा दीदी थाने पहुंचीं और तीर्थ क्षेत्र प्रबंधन पर उन्हें मंदिर से बाहर करने का आरोप लगाया.
दरअसल जैन मुनि शुद्धात्म सागर जिले के बेलाजी जैन तीर्थ क्षेत्र में चातुर्मास कर रहे हैं और बीती 22 जुलाई को बेलाजी पहुंचे थे. कुछ दिन पहले ही आगरा से प्रज्ञा दीदी नामक महिला आश्रम आईं और बताया जा रहा है कि जैन मुनि और प्रज्ञा दीदी के बीच बातचीत होने लगी. जब यह मामला सामने आया तो तीर्थ क्षेत्र के आचार्यश्री सिद्धांत सागर महाराज ने दोनों को आश्रम से बाहर निकाल दिया.

जैन मुनि शुद्धात्म सागर का कहना है कि ‘उन्हें बदनाम कर दिया गया है. इसलिए अब गृहस्थ जीवन ही अपनाऊंगा और प्रज्ञा दीदी के साथ गृहस्थ जीवन स्वीकार कर रहा हूं.’ वहीं प्रज्ञा दीदी का कहना है कि ‘हम सिर्फ मोबाइल पर बात करते थे लेकिन गलत संबंध नहीं बनाए. उनके साथ भेदभाव किया गया और बाद में आश्रम से निकाल दिया गया.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

12 + 7 =

E-Magazine