अखिलेश यादव के आजमगढ़ में संविधान की शपथ दिलाकर हुई शादी

आजमगढ़. समाज में आए दिन हो रहे ऊंच-नींच, सामंतवाद और पाखंडवाद का असर शादी विवाह पर भी पड़ रहा है। यादव सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार यादव के बहन की शादी आजमगढ़ में संविधान की शपथ दिलाकर हुई। इस दौरान पाखंडवाद और फिजूलखर्ची को ठेंगा दिखाते हुए वर और वधू पक्ष ने इसे स्वीकार किया और वैज्ञानिक पद्धति से शादी करवाई। संविधान की शपथ उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व अपर महाधिवक्ता राज बहादुर यादव ने दिलवाई। इसके पहले झांसी के ललितपुर में जेएनयू के स्कॉलर दिलीप यादव ने संविधान की शपथ दिलवाकर शादी की थी। इस शादी में अखिलेश यादव भी आशिर्वाद देने के लिए पहुंचे थे।

फर्क इंडिया को मिली जानकारी के मुताबिक, सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ने वाले यादव सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार यादव ने बहन की शादी से एक बड़ा बदलाव करने की ठान ली थी। इसको लेकर उन्होंने बहन की शादी जहां तय की वहां के लोगों को भी काफी समझाना-बुझाना पड़ा, लेकिन वर्तमान हालात और सामाजिक ठगी को एक अपराध बताते हुए दोनों ही पक्ष इसके लिए तैयार हो गए। सबसे बड़ी बात ये रही कि इस शादी में दहेज प्रथा को खत्म करने की बात हुई। दोनों ही पक्षों ने इसे सामाजिक हित और सामाजिक न्याय के लिए जरुरी बताया है।

यादव सेना के अध्यक्ष शिव कुमार यादव ने बताया कि डॉ. राम मनोहर लोहिया, डॉ. भीमराव अंबेडकर समेत तमाम महापुरुषों के विचारों और सपनों को साकार करना है। इसके लिए हम युवा पीढ़ी को ही पहल करनी होगी। उनके पैतृक निवास ग्राम गड़हन बुजुर्ग पोस्ट बीबीपुर आज़मगढ़ उनकी बहन का विवाह लारपुर आज़मगढ़ निवासी इंजीनियर अवध बिहारी यादव के साथ हुआ जिसमें प्रदेश के कोने कोने से लोग शामिल होने के लिए आए थे। शिव कुमार यादव ने शादी विवाह को भी एक वैचारिक और सामाजिक मेल करार देते हुए सभी से सामंतवाद और पाखंडवाद से लड़ने की अपील की है।

Check Also

विधानसभा सत्र में मंत्रियों को संक्रमित करने पहले मंत्री जी हो गए कोरोना +ve

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा का सत्र आज से शुरू हो गया है। यह सत्र तीन ...