Thursday , September 29 2022

बिहार में उत्पाद विभाग को हो रही बंपर कमाई

छपरा. शराबबंदी के बाद शराब बिक्री से प्राप्त होने वाले राजस्व में भले कमी आ गई है लेकिन उत्पाद विभाग ने कमाई का एक नया जरिया तलाश लिया है. शराबबंदी कानून के बाद जब्त वाहनों की बिक्री से उत्पाद विभाग को बंपर मुनाफा हुआ है. इस वित्तिय वर्ष में सारण जिले में उत्पाद विभाग ने 2 करोड़ 30 लाख की कमाई की है. इसे काफी उत्साहवर्धक माना जा रहा है.

सारण जिले के उत्पाद अधीक्षक रजनीश कुमार ने न्यूज 18 को बताया कि उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे होने के कारण सारण जिले में शराब तस्करी के मामले में लगातार गाड़ियां पकड़ी जा रही है. इन गाड़ियों की नीलामी कोर्ट से अनुमति लेकर की जा रही है. अभी तक विभाग 235 गाड़ियां सिर्फ छपरा जिले में बेच चुका है, जो किसी भी शो रूम की बिक्री से ज्यादा है.

विभाग के द्वारा नोटिस निकालने के बाद लोग खुद ही विभाग से संपर्क कर रहे हैं. इन गाड़ियों की नीलामी थाने में ‘जहां है जैसा है’ के आधार पर की जा रही है. विभाग अब इस काम में तेजी ला रहा है. नीलामी के दौरान लोग वाजिब कीमत से अधिक पैसे की बोली लगाकर भी गाड़ियां खरीद रहे है. ऐसे ही एक मामले में एक ब्रेजा गाड़ी के लिए 30 लोग बोली लगाने पहुंचे. लोगों को भी सरकार द्वारा प्रमाणित गाड़ियां मिलने पर संतोष रहता है कि भविष्य में उनको कोई दिक्कत नहीं होगी. हालांकि इस नीलामी प्रक्रिया के बाद कुछ लोग को समस्याओं से भी दो चार होना पड़ रहा है. उमानगर के अरूण कुमार ने कोपा थाने में जब्त एक कार को नीलामी में खरीदा, लेकिन उसका रजिस्ट्रेशन नहीं हो पा रहा है.
गाड़ियां खरीदने के बाद लोगों की शिकायत है कि इन गाड़ियों के पार्ट्स गायब हैं. हालांकि ऐसी स्थिति से निपटने के लिए उत्पाद अधीक्षक रजनीश कुमार का कहना है कि लोग गाड़ियों की खरीदारी देख-समझकर ही करें. अगर विभाग की तरफ से कोई गलती है, तो पैसे वापस करने का भी प्रवधान है. लेकिन इसके लिए प्रक्रिया से गुजरना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nine + 18 =