Thursday , September 29 2022

खबूसूरत वादियों की सैर कराने वाली टॉय ट्रेन आज से फिर चलेगी

पश्चिम बंगाल के खूबसूरत पर्यटन स्थल दार्जिलिंग में टॉय ट्रेन को आज से फिर शुरू किया जा रहा है। ‘विश्व धरोहर स्थल’ के रूप में घोषित टॉय ट्रेन पिछले 1 साल साल से बंद थी। कोरोना वायरस की स्थिति के कारण बंद टॉय ट्रेन सेवा को आज से शुरू किया जा रहा है। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, औपचारिक रूप से दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे (डीएचआर) के रूप में जानी जाने वाली टॉय ट्रेन आज से न्यू जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग के बीच फिर से चलेगी।

दार्जिलिंग टॉय ट्रेन को 1879 और 1881 के बीच ब्रिटिश काल में बनाया गया था। यह न्यू जलपाईगुड़ी से दार्जिलिंग तक, लगभग 88 किमी दूर, एक ज़िग-ज़ैग ट्रैक पर चढ़ती है। बता दें कि दार्जिलिंग से कुर्सेओंग तक ‘रेड पांडा’ सेवा पुराने भाप इंजनों द्वारा संचालित की जाती है, जबकि ज्यादातर ट्रेन सेवाएं भारत के सबसे ऊंचे रेलवे स्टेशन दार्जिलिंग से घूम तक जाने वाले डीजल इंजनों पर संचालित होती हैं।

पिछले शनिवार को एक आधिकारिक बयान में, एनएफआर ने पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा से कुछ सप्ताह पहले दार्जिलिंग में टॉय ट्रेन सेवाओं को फिर से शुरू करने की घोषणा की। हालांकि, न्यू जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग से जोड़ी जाने वाली ट्रेनों के समय की सूचना अभी तक नहीं दी गई है।

एनएफआर की प्रवक्ता गुनीत कौर ने कहा, “प्रत्येक ट्रेन में प्रथम श्रेणी में 17 सीटें और यात्रियों के लिए सामान्य श्रेणी में 29 सीटें होंगी।” उन्होंने कहा कि हिल स्टेशन रेलवे सेवाओं को फिर से शुरू करने से पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्रों को लाभ होने की उम्मीद है, कोरोनोवायरस महामारी ने दोनों को ही गंभीर रूप से प्रभावित किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × 2 =